30+ बच्चों की कहानियां || मज़ेदार कहानियाँ || Story In Hindi(हिंदी कहानियां)

बच्चों की कहानियां (मज़ेदार कहानियाँ) : आप सभी ने कई बच्चों की कहानियां पढ़ी होंगी जिनमें भूतिया कहानियाँ, शिक्षाप्रद कहानियाँ, अकबर-बीरबल की कहानियाँ, विक्रम बेताल की कहानियाँ आदि शामिल हैं। आज हम 30 मजेदार जादुई कहानियाँ पढ़ेंगे। जो बच्चों के साथ-साथ बड़ों को भी खूब पसंद आता है।

बच्चों को जादुई भूत की कहानियाँ बहुत पसंद आती हैं। इस आर्टिकल में हमने 30 बच्चों की कहानियां(हिंदी कहानियां) लिखी हैं, उन्हें पढ़ें और हमें नीचे कमेंट बॉक्स में बताएं।

बच्चों की कहानियाँ पढ़कर बहुत कुछ सीखा जा सकता है। इसलिए बच्चों को शिक्षाप्रद कहानियाँ अवश्य पढ़नी चाहिए। इस लेख के अंत में हमने एक YouTube वीडियो का लिंक भी दिया है जिसमें बहुत अच्छी कहानियाँ बताई गई हैं। हम अपने यूट्यूब चैनल पर रहस्यमयी जगहों के बारे में भी बताते रहते हैं।

आइए छोटे बच्चों के लिए 30+ मज़ेदार कहानियों से शुरुआत करें - Story In Hindi

बच्चों की कहानियां || मज़ेदार कहानियाँ || हिंदी कहानियां || Story In Hindi

बच्चों की कहानियां || मज़ेदार कहानियाँ

इस लेख में बच्चों की कहानियां (मजेदार कहानियाँ) लिख रहा हूँ। अगर आपको भी अनोखी मजेदार कहानियां पसंद हैं तो आर्टिकल को अंत तक पूरा पढ़ें। आप यहां बच्चों को दिलचस्प कहानियां भी पढ़ और सुना सकते हैं। आइये पढ़ते हैं छोटे बच्चों के लिए मज़ेदार कहानियाँ (बच्चों की कहानियां)

चींटी और कबूतर की मजेदार कहानियाँ

पुराने समय की बात है। एक चींटी पेड़ से पानी में गिर गयी। चींटी पानी से बाहर निकलने की बहुत कोशिश कर रही थी लेकिन सफल नहीं हो रही थी। पेड़ पर बैठा एक कबूतर यह सब देख रहा था। कबूतर पेड़ से एक पत्ता पानी में गिरा देता है, जिस पर चींटी चढ़कर पानी से बाहर निकल जाती है। चींटी ने कबूतर को कृतज्ञतापूर्वक धन्यवाद दिया।

कुछ दिनों के बाद जंगल में एक बहेलिया आता है और कबूतरों को पकड़ने के लिए जाल फैलाता है। चींटी यह सब होते हुए देख रही थी। कुछ देर बाद चींटी ने देखा कि वही कबूतर जिसने चींटी की जान बचाई थी, वह नीचे आ रहा है। चींटी ने कबूतर की जान बचाने के बारे में सोचा और बहेलिए के पैर में काट लिया, जिससे बहेलिया जोर से चिल्लाया। कबूतर जाल की ओर आते हुए अचानक सोचता है कि यह आवाज कहां से आ रही है और बहेलिये को देखकर सारी बात समझ जाता है। और कबूतर उड़ जाता है।

सीख:- हमें मुसीबत में जीवात्मा की मदद करनी चाहिए।

टीचर और स्टूडेंट की मजेदार कहानियाँ

यह कहानी शिक्षाप्रद होने के साथ-साथ मानवता का पाठ भी सिखाती है। ये कहानी एक स्कूल की है। एक दिन बारिश हो रही थी। वहीं सभी कक्षाओं में शिक्षक बच्चों को पढ़ा रहे थे। फिर टीचर बच्चों से पूछते हैं कि अगर आप सभी को 100 रुपये दिए जाएं तो आप इसका क्या करेंगे।

किसी बच्चे ने कहा कि वह खिलौने खरीदेगा, किसी ने कहा कि वह वीडियो गेम खरीदेगा, किसी ने कहा कि वह बेट बॉल खरीदेगा। तभी अध्यापक देखते हैं कि एक बच्चा गहरी सोच में डूबा हुआ है। तो टीचर ने कहा कि सभी बच्चे कुछ न कुछ खरीदने के लिए कह रहे हैं लेकिन तुम कुछ भी नहीं खरीदना चाहते हो? तो बच्चे ने कहा कि मैं अपनी मां के लिए चश्मा खरीदूंगा। तब टीचर कहते हैं कि बेटा, तुम्हारे पापा भी तुम्हारी मां के लिए चश्मा ला सकते हैं।आप अपने लिए कुछ भी नहीं खरीदते। बच्चे ने जो जवाब दिया उससे टीचर का भी गला रुंध गया

बच्चे ने कहा, गुरूजी, मेरे पिता अब इस दुनिया में नहीं हैं, मेरी मां लोगों के कपड़े सिलकर मुझे पढ़ाती है और उसकी आंखों की रोशनी कम होने के कारण वह कपड़े सिलने में सक्षम नहीं है। तो संक्षेप में मैं अपनी माँ के लिए एक जोड़ी चश्मा खरीदना चाहता हूँ। ताकि मैं अच्छे से पढ़ाई कर सकूं, बड़ा आदमी बन सकूं और अपनी मां को सारी सुख-सुविधाएं दे सकूं। बच्चे की बात सुनकर टीचर ने कहा, बेटा, तुम्हारे विचार ही तुम्हारी कमाई हैं। ये 100 रुपए रख लो और अपनी मां के लिए चश्मा खरीद लेना और ये 100 रुपए मैं वहीं दे रहा हूं। जब भी कमाओ तो मुझे लौटा देना और मेरी कामना है कि तुम इतने बड़े आदमी बनो कि मैं तुम्हारे सिर पर हाथ रखकर धन्य हो जाऊं। 20 साल बाद उसी स्कूल के बाहर बारिश हो रही थी और अंदर कक्षाएं चल रही थीं। अचानक जिला कलेक्टर की गाड़ी स्कूल के बाहर रुकती है। स्कूल स्टाफ अलर्ट रहता है।

स्कूल में सन्नाटा छा जाता है, कुछ देर बाद जिला कलेक्टर एक बुद्ध शिक्षक के चरणों में गिरकर कहता है। सर, मैं उधार लिए हुए 100 रुपये वापस करने आया हूं। पूरा स्कूल स्टाफ स्तब्ध रह जाता है, तभी बुद्ध शिक्षक झुके हुए युवा जिला कलेक्टर को उठाते हैं और गले से लगा लेते हैं और रोने लगते हैं।

यह भी पढ़ें दीपावली की भूतिया कहानी

यह भी पढ़ें नशा करने वाले भूत की कहानी

ईमानदारी की प्रेरक कहानी || Story In Hindi

एक बार किसी राज्य में अकाल पड़ गया और लोग भूख के कारण मरने लगे। उस राज्य के राजा ने घोषणा की कि राज्य के प्रत्येक बच्चे को एक रोटी दी जायेगी। अगले दिन राज्य के सभी बच्चे राजा के महल के पास एकत्र हुए। लेकिन कुछ रोटियाँ छोटी थीं और कुछ रोटियाँ बड़ी थीं। सभी बच्चे बड़ी रोटी पाना चाहते थे जिसके कारण वे आपस में धक्का-मुक्की और मारपीट करने लगे। राजा ने देखा कि एक छोटी लड़की चुपचाप रोटी खा रही है। आख़िरकार सबसे छोटी लड़की ने खुशी-खुशी वह रोटी ले ली और घर चली गई। अगले दिन भी ऐसा ही हुआ जब रोटी बांटी जा रही थी तो लड़की को सबसे छोटी रोटी ही मिली, उसने खुशी-खुशी रोटी ले ली और घर चली गई।

खरगोश और कछुए की मजेदार कहानियाँ

एक दिन एक खरगोश और कछुए ने आपस में दौड़ लगाने का फैसला किया। इस दौड़ को देखने के लिए जंगल के सभी जानवर एकत्रित हो गये। बंदर ने गोली चलाई और दौड़ शुरू कर दी। खरगोश कछुए को बहुत पीछे छोड़कर भागने लगा। उसने सोचा कि यह रेस तो वही जीतेगा। इसलिए खरगोश ने सोचा कि जब तक कछुआ नहीं आ जाता, वह थोड़ी देर आराम कर लेगा। फिर खरगोश हरी मुलायम घास पर लेट जाता है और गहरी नींद में सो जाता है। कछुआ धीरे-धीरे चला और खरगोश के पास से गुजर गया। जब खरगोश उठा तो उसने देखा कि कछुआ रेस जीत गया है।

सारस और लोमड़ी की मजेदार कहानियाँ

एक जंगल में एक सारस और एक लोमड़ी रहते थे और धीरे-धीरे वे दोस्त बन गये। लोमड़ी बहुत चतुर थी लेकिन सारस बहुत सीधा था। एक दिन लोमड़ी ने सारस से कहा, “मित्र, तुम्हें कल मेरे घर पर भोजन करना है।” सारस ने उसका निमंत्रण स्वीकार कर लिया। अगले दिन सारस लोमड़ी ने खीर बनाकर दो पत्तलों में परोस दी। दोनों सहेलियाँ खीर खाने बैठ गईं। लोमड़ी ने कुछ ही देर में खीर खा ली, लेकिन सारस अपनी लंबी चोंच से खीर नहीं खा सका और भूखा ही रह गया

उसने मन ही मन लोमड़ी से उसके अहंकार का बदला लेने की ठान ली। कुछ दिनों के बाद सारस ने लोमड़ी से कहा, बहन, कल हमारे खाने पर आना। लोमड़ी ने ख़ुशी-ख़ुशी उसका निमंत्रण स्वीकार कर लिया और अगले ही दिन उसके घर पहुँच गई। सारस ने खीर बनाई और उसे दो लंबे गले वाले बर्तनों में परोसा। सारस ने अपनी लम्बी गर्दन से खीर साफ कर दी। लेकिन लोमड़ी खाना नहीं खा सकी और भूखी ही रह गई। वह अपने पिछले व्यवहार से बहुत शर्मिंदा थी।

नकलची बंदर के बारे में मजेदार कहानियाँ

एक समय की बात है, सड़क के किनारे एक पेड़ पर बहुत सारे बंदर रहते थे। वह गर्मी का दिन था। एक थका हुआ हरी टोपी बेचने वाला जा रहा था। एक पेड़ की घनी छाया देखकर उसने टोपियों का बंडल वहीं रख दिया और आराम करने लगा। थकान के कारण उसे नींद आ गई। जब उसकी आंख खुली तो उसने अपनी गठरी खाली पाई, उसे बहुत आश्चर्य हुआ, उसने इधर-उधर देखा और कुछ देर बाद उसकी नजर पेड़ पर बैठे बंदरों पर पड़ी। बंदरों ने टोपी बेचने वाले की सारी टोपियाँ अपने सिर पर रख लीं। टोपी बेचने वाले ने बंदरों को धमकाया लेकिन बंदरों ने टोपियां नहीं छोड़ीं। तभी टोपी वाले को एक उपाय सूझा और उसने अपनी टोपी उतारकर नीचे फेंक दी। नकलची बंदरों ने भी अपनी टोपियाँ उतारकर नीचे फेंक दीं और फिर टोपी वाले ने अपनी सारी टोपियाँ इकट्ठी की और वहाँ से चला गया।

यह भी पढ़ें बरगद के पेड़ वाली चुड़ैल

यह भी पढ़ें लाश चुराने वाली चुड़ैल की कहानी

चालक बंदर और मगरमच्छ की कहानी || हिंदी कहानियां

नदी के किनारे एक जामुन का पेड़ था और उस पेड़ पर एक बंदर रहता था। उसकी दोस्ती नदी में रहने वाले एक मगरमच्छ से हो गई। बंदर मगरमच्छ की पीठ पर बैठकर नदी पार करता था और बदले में बंदर मगरमच्छ को जामुन खिलाता था और अपनी पत्नी के लिए भी जामुन भेजता था। जामुन खाने के बाद मगरमच्छ की पत्नी बंदर का दिल खाना चाहती थी। उसने मगरमच्छ से कहा कि वह बंदर को अपने घर बुलाये। घर जाते समय मगरमच्छ ने बंदर को सच बताया कि उसकी पत्नी बंदर का दिल खाना चाहती थी।

यह सुनकर बंदर को मगरमच्छ की चाल समझ आ गई और उसने मगरमच्छ से कहा, “भाई, मैं अपना दिल पेड़ पर छोड़ आया हूँ।” इसलिए बंदर की बात सुनकर मुझे पेड़ के पास ले चलो, मगरमच्छ पेड़ की ओर मुड़ गया और जैसे ही मगरमच्छ पेड़ के पास पहुंचा, बंदर छलांग लगाकर पेड़ पर चढ़ गया और उसकी जान बच गई।

आलू, अंडे और कॉफ़ी बीन्स की कहानी 

एक था जिसका नाम जॉन था और वह बहुत दुखी था। उसके पिता ने उसे रोते हुए पाया। जब तक उनके पिता ने जॉन से नहीं पूछा कि वह क्यों रो रहे हैं, उन्होंने कहा कि उनके जीवन में बहुत सारी समस्याएं हैं। तो उनके पिता ने मुस्कुराते हुए उनसे एक आलू, एक अंडा और कुछ कॉफी बीन्स लाने को कहा। उसने उन्हें तीन कटोरे में रखा, फिर उसने जॉन से उनकी बनावट महसूस करने के लिए कहा और फिर उसने उसे प्रत्येक कटोरे को पानी से भरने का निर्देश दिया। जॉन ने वैसा ही किया जैसा उससे कहा गया था।

उसके पिता ने फिर तीनों कटोरे उबाले। एक बार जब कटोरे ठंडे हो गए, तो जॉन के पिता ने उसे विभिन्न खाद सामग्री की बनावट को फिर से महसूस करने के लिए कहा। जॉन ने देखा कि आलू नरम हो गया था और उसका छिलका आसानी से छिल रहा था। अंडा सख्त और सख्त हो गया था। कॉफी बीन्स पूरी तरह से बदल गईं और पानी के कटोरे को सुगंध और स्वाद से भर दिया।

दो मेंढकों की कहानी || हिंदी कहानियां

एक बार मेंढकों का एक समूह पानी की तलाश में जंगल में घूम रहा था, अचानक समूह में से दो मेंढक गलती से एक गहरे गड्ढे में गिर गये। समूह के अन्य मेंढक गड्ढे में अपने दोस्तों के बारे में चिंतित थे क्योंकि गड्ढा कितना गहरा था। यह देखकर उसने दोनों मेंढकों से कहा कि गहरे गड्ढे से बचने का कोई रास्ता नहीं है और प्रयास करने का कोई मतलब नहीं है। वे उन्हें हतोत्साहित करते रहे क्योंकि दोनों मेंढक गड्ढे से बाहर निकलने की कोशिश कर रहे थे। उन दोनों ने कितनी भी कोशिश की, वे सफल नहीं हो सके। जल्द ही दोनों में से एक मेंढक को दूसरे मेंढकों पर विश्वास होने लगा कि वे कभी भी गड्ढे से बाहर नहीं निकल पाएंगे और अंततः हार मान ली और मर गए।

दूसरा मेंढक अपना प्रयास जारी रखता है और अंततः इतनी ऊंची छलांग लगाता है। कि वह गड्ढे से बच निकले। इस पर अन्य मेंढक हैरान रह गए और सोचने लगे कि उसने ऐसा कैसे किया। अंतर यह था कि दूसरा मेंढक बहरा था और समूह का प्रोत्साहन नहीं सुन सका। उसने सोचा कि वे उसके प्रयासों की सराहना कर रहे थे और उसे कूदने के लिए प्रोत्साहित कर रहे थे।

शेर और चूहे की कहानी || हिंदी कहानियां

किसी जंगल में एक शेर रहता था। एक बार वह सो रहा था तभी अचानक एक चूहा शेर के पास आया और शेर के शरीर पर दौड़ने लगा। इससे शेर की नींद टूट जाती है और वह क्रोधित होकर चूहे को पकड़ लेता है। तब चूहे ने शेर से कहा, मुझे छोड़ दो, मैं एक दिन तुम्हारी मदद जरूर करूंगा। शेर हँसा और उसे छोड़ दिया। कुछ दिनों के बाद शेर एक शिकारी के जाल में फंस गया। जब चूहे ने शेर को जाल में फंसा देखा तो उसने तुरंत अपने दोस्तों को बुलाया और सभी चूहों ने मिलकर जाल कुतर दिया। आख़िरकार शेर जाल से आज़ाद हो गया और वह बहुत खुश हुआ। उसने चूहे को धन्यवाद दिया।

मूर्ख गधे के बारे में मजेदार कहानियाँ

एक नमक विक्रेता प्रतिदिन अपने गधे पर नमक की थैली लादकर बाजार जाता था। रास्ते में उन्हें एक नदी पार करनी पड़ी। एक दिन नदी पार करते समय गधा अचानक नदी में गिर गया। जिसके कारण नमक की बोरियां भी पानी में गिर गईं क्योंकि नमक से भरी बोरियां पानी में घुल गईं और इसलिए बोरियां ले जाने के लिए बहुत हल्की हो गईं। थैला हल्का होने के कारण गधा बहुत खुश हुआ। अब गधा फिर से हर दिन वही चाल चलने लगा। इससे नमक विक्रेता को भारी नुकसान उठाना पड़ेगा। रोज-रोज के इस नुकसान को देखकर नमक बेचने वाले को उसकी चाल समझ में आ गई और उसने उसे सबक सिखाने का फैसला किया।

अगले दिन उसने गधे पर रुई से भरा थैला लाद दिया। गधे ने फिर से वही तरकीब अपनाई, उसे उम्मीद थी कि कपास की थैली अब भी हल्की हो जाएगी। लेकिन गीली कपास ले जाना बहुत भारी हो गया और गधे को नुकसान उठाना पड़ा। इससे उसे सबक मिला और उस दिन के बाद उसने कोई चाल नहीं चली और नमक बेचने वाला खुश रहा।

यह भी पढ़ें खौफनाक भूतिया कहानियां

मूर्ख को सलाह || हिंदी कहानियां

एक जंगल में आम के पेड़ पर बहुत सारे पक्षी रहते थे। वे अपने छोटे-छोटे घोंसलों में खुश थे। बरसात का मौसम शुरू होने से पहले वे अपने घोंसलों को मजबूत बना लेते थे। सभी पक्षी ढेर सारी टहनियाँ और पत्तियाँ लाकर अपने घोंसलों को मजबूत करते थे। पक्षियों ने सोचा कि हमें अपने बच्चों के लिए कुछ दाना तोड़कर लाना चाहिए। सभी पक्षी भोजन खोजने और उसे इकट्ठा करने के लिए कड़ी मेहनत करते थे ताकि बारिश के मौसम में उन्हें किसी भी समस्या का सामना न करना पड़े। शीघ्र ही वर्षा ऋतु आ गई और सभी पशु-पक्षी अपने-अपने घरों में रहने लगे। बारिश कई दिनों तक जारी रही। एक दिन एक बंदर बारिश में फंस गया। बारिश के दौरान वह एक पेड़ की शाखा पर बैठ गया लेकिन पानी अभी भी उस पर गिर रहा था। भीगते समय बंदर को बहुत ठंड लग रही थी। बंदर बोला अरे बहुत ठंड है। पक्षी यह सब देख रहे थे, उन्हें बंदर के लिए बहुत बुरा लग रहा था लेकिन उनके लिए कुछ भी संभव नहीं था।

एक पक्षी बोला, “बंदर भाई, तुम हमारे छोटे से घोंसले में नहीं आ पाओगे।” इसलिए हम आपकी मदद नहीं कर सकते। हम सभी ने बरसात के मौसम की तैयारी कर ली थी। अगर आपने भी अपना घर बनाया होता तो आपकी ये हालत नहीं होती। चिड़िया की बात सुनकर बंदर को बहुत गुस्सा आया। बंदर ने कहा, “तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई यह बताने की कि मुझे क्या करना चाहिए और क्या नहीं।” गुस्से में आकर उसने पक्षियों के सारे घोंसले तोड़ दिये और जमीन पर फेंक दिये। पक्षी कुछ नहीं कर सकते थे, इसलिए बंदर को तो नुकसान हुआ ही, उसने पक्षियों को भी नुकसान पहुँचाया। पक्षियों ने सोचा कि मूर्ख कभी भी अच्छी सलाह नहीं सुनते, इसलिए उन्हें सलाह न देना ही बेहतर है।

यह भी पढ़ें डरावने भूत की कहानियां

बुढ़िया और कौए की कहानी || Story In Hindi

बहुत समय पहले की बात है, एक गाँव में एक पीपल का पेड़ था जहाँ बहुत सारे कौवे रहते थे। एक सुबह, हमेशा की तरह, सभी लोग भोजन की तलाश में पेड़ के पास गये। लेकिन एक कौवा सो रहा था तभी उसकी नींद खुली और उसने देखा कि सभी कौवे पहले से ही भोजन की तलाश में थे। इसके बाद उसने भोजन की तलाश में अकेले जाने की सोची। वह पेड़ से उतरकर उड़ गया और पूरे गांव में भोजन ढूंढने लगा लेकिन उसे कहीं भी भोजन नहीं दिखा। इसके बाद वह एक मकान की छत पर बैठ गया। वहां बहुत अच्छी खुशबू आ रही थी। वह उस दिशा में जाने लगा जिस ओर से गंध आ रही थी, उसने देखा कि एक बूढ़ी औरत घर के आंगन में बैठी हुई थी और वड़े बना रही थी। वड़ा देखकर कौवे के मुँह में पानी आ गया।

वह बहुत भूखा था और तभी वड़ा खाना चाहता था। जब वह बुढ़िया के पास गया तो उसने देखा कि बुढ़िया ने पहले से ही एक कौआ बांध रखा है। बुढ़िया ने उससे भी यही बात कही, अगर तुमने वड़ा चुराने की कोशिश की तो वह तुम्हें भी अपनी तरह बंद कर देगी। कौआ यह बात तब तक समझता रहा जब तक बुढ़िया वहां थी। तब तक वह वड़ा चुरा नहीं सका। उसने एक तरकीब सोची और उस घर के पीछे जाकर बच्चों की आवाज़ में पूछा, “दादी आप कहाँ हैं?” इसके बाद बुढ़िया बोली, मैं आ रही हूं। बुढ़िया वहाँ से चली गई, कौवे ने एक छोटा सा वड़ा चुरा लिया और अपने पेड़ पर चला गया। जब वह मुंह में वड़ा लेकर अपने घोंसले के पास पहुंचा, तो एक चतुर लोमड़ी ने कौवे को देख लिया।

वड़ा देखकर लोमड़ी के मुँह में पानी आ गया और वह कौवे की प्रशंसा करने लगी। वह बोली, कितना अच्छा काले रंग का कौआ है। उसकी आँखें कितनी सुन्दर हैं, उसके पंख कितने सुन्दर हैं। कौआ अपनी प्रशंसा सुनकर बहुत खुश हुआ और सब कुछ भूल गया। इसके बाद लोमड़ी ने कहा, "यह कितना अच्छा है? आवाज तो बहुत अच्छी होगी।" लोमड़ी ने कौवे से कहा, "क्या तुम मेरे लिए गाना बजाओगे?" जैसे ही कौवे ने अपना मुँह खोला, वह पेड़ से नीचे गिर गया। गया। गाड़ी चलाने वाले लोमड़ी ने वड़ा उठाया और चला गया। कौवे को एहसास हो गया था कि लोमड़ी ने उसे बेवकूफ बनाया है। उसने सोचा कि बुढ़िया के साथ सौदा करने के लिए उसे कोई दूसरा रास्ता खोजना होगा।

एक बूढ़े आदमी की कहानी || Story In Hindi

गाँव में एक बूढ़ा आदमी रहता था। वह दुनिया के सबसे बदकिस्मत लोगों में से एक थे। पूरा गाँव उसके अजीब व्यवहार से तंग आ गया था। क्योंकि वह हमेशा उदास रहता था। वह लगातार शिकायत करता था और हमेशा बुरे मूड में रहता था। बूढ़ा आदमी जितना अधिक समय तक जीवित रहा, वह उतना ही अधिक दुखी होता गया। उनकी बातें भी उतनी ही जहरीली थीं। लोग उससे दूर रहने लगे क्योंकि उसका दुर्भाग्य संक्रामक हो गया था। इतने दुःख के कारण उन्होंने दूसरों के मन में भी दुःख की भावना पैदा कर दी लेकिन एक दिन जब वे 80 वर्ष के हुए तो एक अविश्वसनीय घटना घटी। यह बात आज की तरह लोगों में फैल गई। वह आदमी आज खुश था, उसे किसी बात की शिकायत नहीं थी लेकिन पहली बार वह मुस्कुरा रहा था।

आज उसका चेहरा भी तरोताजा लग रहा था। यह देखकर सभी गांव वाले उसके घर के बाहर जमा हो गए और सभी ने बूढ़े से पूछा, तुम्हें क्या हो गया है? बूढ़े आदमी ने कहा, कुछ खास नहीं, मैं 80 साल से खुशियों के पीछे भाग रहा हूं और यह व्यर्थ है। मुझे कभी ख़ुशी नहीं मिली और फिर मैंने खुशी के बिना जीने और जीवन का आनंद लेने का फैसला किया इसलिए अब मैं खुश हूं।

पति-पत्नी के सच्चे प्यार की कहानी || Story In Hindi

एक आदमी ने एक बेहद खूबसूरत लड़की से शादी की। शादी के बाद दोनों बेहद प्यार भरी जिंदगी जी रहे थे। वह उससे बहुत प्यार करता था और हमेशा उसकी सुंदरता की प्रशंसा करता था। लेकिन कुछ ही महीनों बाद वह बेचारी चर्म रोग से पीड़ित होने लगी और धीरे-धीरे उसकी सुंदरता ख़त्म होने लगी। खुद को ऐसा देखकर उसे डर लगने लगा कि अगर वह बदसूरत हो गई तो उसका पति उससे नफरत करने लगेगा। वह उसकी नफरत बर्दाश्त नहीं कर पाएगी। इसी बीच एक दिन पति को किसी काम से बाहर जाना पड़ा और काम खत्म करने के बाद वह घर लौट रहे थे। उनका एक्सीडेंट हो गया और इस एक्सीडेंट में उनकी दोनों आंखें चली गईं।

लेकिन इसके बावजूद दोनों की जिंदगी हमेशा की तरह आगे बढ़ती रही। समय बीतने के साथ-साथ आकर्षण रोग के कारण लड़की की सुंदरता पूरी तरह खत्म हो गई और वह बदसूरत हो गई, लेकिन अंधे पति को इस बारे में कुछ भी पता नहीं चला। इसलिए उनके सुखी वैवाहिक जीवन पर कोई असर नहीं पड़ा। वह इसी तरह प्यार करता रहा। एक दिन उस लड़की की मृत्यु हो गई, पति अब अकेला था, वह बहुत दुखी था, वह उस शहर को छोड़ना चाहता था। उनके अंतिम संस्कार की सभी रस्में पूरी करने और शहर छोड़ने के बाद एक आदमी ने उन्हें पीछे से बुलाया और कहा, "अब तुम बिना सहारे के अकेले कैसे चल पाओगे? तुम्हारी पत्नी इतने सालों से तुम्हारी मदद करती थी।"

पति ने जवाब दिया, "दोस्त, मैं अंधा नहीं हूं, मैं तो अंधा होने का नाटक कर रहा था।" क्योंकि अगर मेरी पत्नी को पता चलता कि मैं उसकी कुरूपता देख सकता हूं तो इससे उसे उसकी बीमारी से ज्यादा दुख होगा। मैंने इतने सालों तक अंधे होने का नाटक किया, वह बहुत अच्छी पत्नी थी। मैं बस उसे खुश रखना चाहता था।

सोच बदलने वाली कहानी

एक बार की बात है, एक गांव में एक बूढ़ी मां रात के अंधेरे में अपनी झोपड़ी के बाहर कुछ ढूंढ रही थी। तभी गांव के एक व्यक्ति की नजर उस पर पड़ी। उस व्यक्ति ने बूढ़ी मां से पूछा कि वह इतनी रात को रोड लाइट के नीचे क्या ढूंढ रही थी। बूढ़ी माँ ने कहा, कुछ नहीं, मेरी सुई खो गयी है। मैं बस यही खोज रहा हूं, फिर क्या था वह अच्छा इंसान भी बूढ़ी मां की मदद करने के लिए रुका और उसके साथ सुई ढूंढने लगा और थोड़ी ही देर में और भी लोग बूढ़ी मां की सुई ढूंढने में जुट गए और कुछ ही देर में लगभग सारी सुइयाँ मिल गईं। गांव वाले ही जुट गये। सभी लोग बड़े ध्यान से सुई ढूंढने में लगे हुए थे तभी किसी ने बूढ़ी मां से पूछा, बूढ़ी मां मुझे बताओ कि सुई कहां गिरी है, बेटा सुई झोपड़ी के अंदर गिरी है, बूढ़ी मां ने जवाब दिया।

यह सुनकर सभी बहुत क्रोधित हो गए और भीड़ में से किसी ने ऊंची आवाज में कहा, अम्मा, तुम कमल हो, हम इतनी देर से सुई ढूंढ रहे हैं। जबकि सूई तो झोंपड़ी के अंदर ही गिरी थी, फिर सूई को यहां बाहर क्यों खोजा जाए? सड़क पर लाइटें जल रही हैं तो बूढ़ी मां ने कहा, दोस्तों शायद आज के युवा भी अपने भविष्य के बारे में इसी तरह सोचते हैं कि लाइटें कहां जल रही हैं। वो ये नहीं सोचते कि हमारा दिल क्या कह रहा है।

हमारी सुई कहाँ गिरी है? हमें यह जानने का प्रयास करना चाहिए कि हम किस क्षेत्र में अच्छा कर सकते हैं और उसी में अपना करियर बना सकते हैं, न कि भेड़चाल में उस क्षेत्र में पड़ जाएं जिसमें दूसरे लोग जा रहे हैं या जिस क्षेत्र में दूसरे लोग जा रहे हैं। क्या आप जा रहे हैं या जिसमें हमें ज्यादा पैसे दिख रहे हैं।

खिड़की || हिंदी कहानियां

एक बार की बात है, एक नवविवाहित जोड़ा किराये के मकान में रहने आया और अगली सुबह जब वे शराब के नशे में धुत हो रहे थे तो उनकी पत्नी ने खिड़की से देखा कि सामने छत पर कुछ कपड़े फैले हुए हैं। ये लोग अपने कपड़े साफ करना भी नहीं जानते, जरा देखो तो कितने गंदे दिखते हैं। पति ने उसकी बात सुनी और ज्यादा ध्यान नहीं दिया। एक-दो दिन बाद फिर कुछ कपड़े उसी जगह बिखरे पड़े थे। जैसे ही पत्नी ने उसे देखा, उसने अपनी बात बदल दी और पूछा कि वे लोगों के कपड़े साफ करना कब सीखेंगे। पति सुनता रहा है लेकिन इस बार भी उसने उससे कुछ नहीं कहा, लेकिन अब यह नियमित बात हो गई है कि पत्नी जब भी कपड़े फैले हुए देखती है तो भला-बुरा कहने लगती है। करीब एक माह बाद वे वहीं बैठकर शराब पी रहे थे।

कपड़े आप साफ देख सकते हैं हिना, पति ने अपनी बात पूरी की, यही बात जिंदगी में भी लागू होती है। कई बार हम दूसरों को कैसे देखते हैं यह इस बात पर निर्भर करता है कि हम खुद कितने साफ-सुथरे हैं। किसी के बारे में अच्छा या बुरा कहने से पहले हमें यह देखना चाहिए कि क्या हम सामने वाले में कुछ बेहतर देखने के लिए तैयार हैं या क्या हमारी खिड़की अभी भी गंदी है।

दिव्यांग की कहानी || Story In Hindi

एक बार की बात है बहुत से युवक इंटरव्यू देने आये थे। एक जगह विकलांग उम्मीदवार के लिए थी। सभी युवाओं के अलावा केवल दो दिव्यांग युवा आये थे और दोनों युवाओं में से एक का चयन करना था। आजकल सरकारी नौकरी पाना आसान नहीं है। दोनों दिव्यांग बड़ी उम्मीद लेकर वहां पहुंचे थे। जबकि उनमें से एक का चयन होना था, दोनों बेरोजगार थे और विकलांग लोगों की बेरोजगारी की स्थिति सामान्य लोगों से भी बदतर थी। उन दोनों विकलांगों का नाम रोहन और रमन था। रमन, रोहन से अधिक विकलांग है। वह अपने सभी कार्यों के लिए दूसरों पर निर्भर रहता है। रोहन ने सोचा कि इस लड़के को नौकरी जरूर मिलनी चाहिए, क्योंकि वह उससे कहीं अधिक एक विकल्प है, रोहन भी बड़ी कठिनाई से जीवन जी रहा था।

रोजगार का अवसर हर दिन नहीं मिलता। रमन को इंटरव्यू के लिए बुलाया गया और वह इंटरव्यू देकर बाहर आ गया। उसके बाद रोहन को बुलाया गया लेकिन रोहन अंदर नहीं गया और बाहर रमन से बोला, दोस्त तुम्हें इस नौकरी की बहुत जरूरत है।

नाई और भूत की कहानी

एक समय की बात है, किसी गाँव में एक नाई रहता था। वह बहुत गरीब था और अपनी पत्नी के साथ एक झोपड़ी में रहता था। वह ईमानदार थे लेकिन उनकी आय अधिक नहीं थी। वह रोज जब घर लौटता तो उसकी पत्नी पूछती, प्रिये, आज तुमने कितना कमाया? पति बहुत संभलकर कहते थे कि आज सप्ताह का दिन था इसलिए मेरी दुकान पर बाल कटवाने के लिए ज्यादा ग्राहक नहीं आये। इसलिए मैं आज ज्यादा नहीं कमा सका। उसकी पत्नी उसे डांटती थी और लाठियों से पीटती भी थी और यह कहकर धमकाती थी कि सुनो, कल रविवार है। मैं कोई बकवास नहीं सुनना चाहता, मैं चाहता हूं कि तुम कल ढेर सारे पैसे लेकर घर वापस आओ। नाई उसके सार को हिलाता था। हालाँकि वह निश्चित रूप से जानता था कि कुछ भी बदलने वाला नहीं है, फिर भी वह अपनी पत्नी से इतना डरता था कि उसने सच बताने की हिम्मत नहीं की।

उन्होंने 33 करोड़ देवताओं से प्रार्थना की कि रविवार को उनका कारोबार सामान्य से बेहतर रहे। रविवार की एक दुर्भाग्यपूर्ण शाम को उसने मदद के लिए भगवान से प्रार्थना की लेकिन कभी-कभी भगवान लोगों को खतरे में डाल देता है। वह कोई अपवाद नहीं था। उनकी दुकान पर बहुत कम लोग बाल कटवाने आते हैं। उसकी कमाई उसकी पत्नी की अपेक्षाओं के अनुरूप नहीं थी, इसलिए वह सूरज डूबने पर घर वापस नहीं जाना चाहता था। वह अपनी पत्नी द्वारा उसे डांटने और पीटने के बारे में सोचता था और वापस आने से नहीं डरता था। वह एक नदी के किनारे बैठ गया और नदी के पानी पर कुछ कंकड़ फेंके। उसने नदी के पानी पर चंद्रमा का प्रतिबिंब देखा और घर लौटने पर अपने भाग्य के बारे में सोचा।

नदी तट पर कुछ घंटे बिताने के बाद उसने मन ही मन सोचा, नदी तट पर अधिक समय बिताने का क्या मतलब है? मुझे घर वापस आने दो और देखो कि क्या मैं अपनी पत्नी को मना सकता हूँ। वह घर वापस गया और अपनी झोपड़ी का दरवाजा खटखटाया। उसकी पत्नी ने दरवाज़ा खोला और कहा कि तुम यहाँ इतनी देर क्यों इंतज़ार कर रहे हो, आज तो तुमने बहुत कुछ कमाया होगा। ओह, मैं बहुत उत्साहित हूं। जैसे ही नाई अपनी झोपड़ी में घुसना चाहा तो उसकी पत्नी ने उसे रोक दिया और कहा कि पहले मुझे पैसे दो फिर झोपड़ी में घुसना।

नाई ने अपनी पत्नी से कहा कि वह ज्यादा काम नहीं कर सकता। लेकिन इससे पहले कि वह अपना स्पष्टीकरण पूरा कर पाता। उसकी पत्नी ने उसे पीटने के लिए एक बड़ा मोटा डंडा उठाया। नाई समझ गया कि वह अपनी जान जोखिम में डाल रहा है और वह तुरंत पूरे मन से उस स्थान से खाई के नीचे उच्चतम संभव गति से भाग गया। हर बार जब वह रुकता तो उसे लगता कि उसकी पत्नी एक बड़ी छड़ी लेकर उसका पीछा कर रही है। वह फिर अपनी जान बचाने के लिए तेजी से भागने लगा। वह एक अँधेरी रात थी और नाई एक थका हुआ आदमी था जिसे उसके आगे भागना था। कोई ऊर्जावान बच्चा नहीं था। अतः वह एक सुशिक्षित नीम के पेड़ के नीचे बैठ गया। उसे एहसास हुआ कि भागते-भागते वह सचमुच घने जंगल में घुस गया है। जो विशाल वृक्षों, वन्य जीवन और न जाने क्या-क्या से भरा हुआ था।

उसकी जेब में एक भी पैसा नहीं था, केवल एक छोटा सा थैला था। जिसमें एक कैंची, एक चाकू, शेविंग क्रीम और एक शीशा था। उसने देखा कि उसके आसपास बहुत सारे जुगनू उड़ रहे हैं और वह उन्हें देखते-देखते सो गया।

माँ और भगवान की कहानी

एक बार की बात है, एक बच्चे का जन्म होने वाला था। जन्म से कुछ दिन पहले उन्होंने भगवान से पूछा, मैं बहुत छोटा हूं, मुझे यह भी नहीं पता कि धरती पर कुछ कैसे करना है। कृपया मुझे अपने साथ रहने दीजिए। मैं कहीं नहीं जाना चाहता, भगवान ने कहा, मेरे पास बहुत सारे देवदूत हैं, उनमें से मैंने तुम्हारे लिए सबसे पहले एक को चुना है, लेकिन वह तुम्हारा ख्याल रखेगा, लेकिन तुम मुझे बताओ, यहां स्वर्ग में मैं कुछ नहीं करता, बस गाओ और मुस्कुराओ। मेरे लिए खुश रहने के लिए इतना ही काफी है, आपकी परी हर दिन आपके लिए गाएगी और आपके लिए मुस्कुराएगी और आप भी उसके प्यार को महसूस करेंगे और खुश रहेंगे। जब वो लोग मुझसे बात करेंगे तो मुझे समझ आएगा कि मैं उनकी भाषा कैसे नहीं जानता, आपकी परी आपसे सबसे प्यारे और प्यारे शब्दों में बात करेगी।

ऐसे शब्द जो आपने यहां नहीं सुने होंगे और वह फरिश्ता तुम्हें बड़े धैर्य और सावधानी से बोलना भी सिखाएगा। जब मुझे आपसे बात करनी होगी तो मैं क्या करूंगा? आपका फरिश्ता तुम्हें हाथ जोड़कर प्रार्थना करना सिखाएगा और इस तरह तुम मुझसे बात कर पाओगे। बच्चे ने कहा, मैंने सुना है कि धरती पर बहुत बुरे लोग होते हैं। उन से मुझे कौन बचाएगा, तब परमेश्वर ने कहा, तेरा दूत तुझे बचाएगा, चाहे उसका अपना प्राण ही संकट में हो। लेकिन मैं हमेशा दुखी रहूँगा। क्योंकि मैं तुम्हें नहीं देखूंगा, इसकी चिंता मत करो, तुम्हारी परी हमेशा तुमसे मेरे बारे में बात करेगी।

और यह तुम्हें यह भी बताएगा कि तुम मेरे पास वापस कैसे आ सकते हो। उस समय स्वर्ग में असीम शांति थी लेकिन पृथ्वी से किसी के कराहने की आवाज आ रही थी। बालक समझ गया कि अब उसे धरती पर जाना है और उसने रोते हुए भगवान से कहा, 'हे भगवान, अब मैं जा रहा हूं।' अब कृपया मुझे उस परी के बारे में मत बताइये। भगवान ने कहा कि परी के नाम का कोई महत्व नहीं है, बस इतना जान लो कि तुम उसे माँ कहोगे।

ताकतवर कछुए की मूर्खता के बारे में मजेदार कहानियाँ

एक झील में विशाल नाम का कछुआ रहता था। उसके पास एक मजबूत कवच था। यह कवच शत्रुओं से रक्षा करता था। कितनी बार उसके कवच के कारण उसकी जान बच गयी। एक बार एक भैंस पानी पीने के लिए तालाब पर आई, भैंस ने विशाल पर पैर रख दिया, लेकिन विशाल ने उस पर पैर नहीं रखा। उसकी जान बचाई जा रही थी। कुछ दिनों के बाद कछुए को यह विशाल खोल भारी लगने लगा। उसने सोचा कि उसे यह कवच उतार देना चाहिए और अपना जीवन जीना चाहिए। उसने सोचा कि अब मैं ताकतवर हो गया हूं, मुझे कवच की जरूरत नहीं है। अगले ही दिन विशाल कवच को तालाब में छोड़कर इधर-उधर घूमने लगा तभी अचानक हिरणों का एक झुंड तालाब में पानी पीने आया। बहुत-सी हिरणियाँ अपने बच्चों के साथ पानी पीने आयी थीं। उन हिरणों के पैरों से विशाल को चोट लगी और वह रोने लगा।

आज उसने अपना कवच नहीं पहना था जिसके कारण चोट बहुत गंभीर थी और विशाल रोते हुए तलबा के पास गया और कवच पहन लिया। कम से कम कवच जीवन बचाता है।

राजू की समझदारी के मजेदार किस्से

जतनपुर में सभी लोग बीमार पड़ रहे थे। डॉक्टर ने उसकी बीमारी का कारण मक्खी को बताया। जतनपुर के पास एक कूड़ेदान है जिस पर बहुत सारी मक्खियाँ हैं। वह उड़कर सभी घरों में पहुंच जाती थी और वहां रखा खाना खराब कर देती थी। उस भोजन को खाकर लोग बीमार पड़ रहे थे। राजू दूसरी कक्षा में पढ़ता था। उनकी मैडम ने मक्खियों के कारण फैलने वाली बीमारी के बारे में बताया। राजू ने मक्खियों को भगाने का फैसला किया और घर आकर अपनी माँ को मक्खियों के बारे में बताया। वह हमारा खाना गंदा कर देती है और घर में गंदगी फैला देती है। उसे घर से बाहर निकाल देना चाहिए।'

राजू बाहर से फिनाइल लाया और उसके पानी से घर को साफ किया और खाना रसोई में ढक दिया। जिसके कारण मक्खियों को भोजन नहीं मिल पाता। दो दिन में ही मक्खियाँ घर से बाहर भाग गईं और फिर कभी घर के अंदर नहीं आईं।

बिच्छू और संत की मजेदार कहानियाँ

एक बार की बात है, एक नदी में एक बिच्छू तैर रहा था। नदी के पास खड़े एक साधु ने बिच्छू को बहता देख हाथ से उसे बाहर निकालने का प्रयास किया। बिच्छू ने अपने स्वभाव के कारण संत को डंक मार दिया और वापस नदी में गिर गया। संत ने फिर हाथ से बिच्छू को बाहर निकालने की कोशिश की। संत को बिच्छू ने डंक मार दिया। इसने बिच्छू को फिर से डंक मारा और वह वापस नदी में गिर गया। ऐसा दो-तीन बार और हुआ और अंततः संत बिच्छू को नदी से बाहर निकालने में सफल हो गए। पास ही खड़ा संत का शिष्य यह सब देख रहा था। उसने संत से पूछा कि आप जानते थे कि बिच्छू का स्वभाव नुकसान पहचानने का है, फिर भी आप इसे अपने हाथ से दूर रख रहे हैं। संत ने कहा, जब यह बिच्छू अपना स्वभाव नहीं बदल सकता तो मैं साधु बनकर अपना स्वभाव कैसे बदल सकता हूं। तो दोस्तों इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि हमें दूसरों के दुर्व्यवहार को देखकर अपना स्वभाव नहीं बदलना चाहिए।

दर्जी और हाथी की मजेदार कहानियाँ

एक गाँव में एक दर्जी रहता था और उसी गाँव में एक हाथी भी रहता था। हाथी प्रतिदिन नहाने के लिए गांव के किनारे स्थित नदी में जाता था। रास्ते में वह दर्जी की दुकान के पास से गुजरता था और दर्जी उसे फल खिलाता था। दोनों अच्छे दोस्त बन गये। एक दिन दर्जी थोड़ा परेशान था। हर दिन की तरह, हाथी आज उसकी दुकान पर आया लेकिन दर्जी ने उसे फल देने के बजाय उसे सुई चुभा दी। हाथी को चोट लगी और वह हैरान, परेशान और क्रोधित भी हुआ, लेकिन बिना कुछ कहे चुपचाप चला गया। हमेशा की तरह नदी पर पहुँचकर वह दर्जी के बुरे व्यवहार को भूल नहीं पाया और उसने अपने जूते में कीचड़ भरा पानी भर लिया और वापस दर्जी की दुकान पर आ गया।

हाथी ने सभी नए कपड़ों पर कीचड़ वाला पानी फेंक दिया और दर्जी भी गंदा हो गया। दर्जी को हाथी का व्यवहार देखकर आश्चर्य हुआ लेकिन उसे गुस्सा नहीं आया। वह दुकान से बाहर आया और हाथी को प्यार से छुआ। उसे हाथी के लिए बुरा लगा, फिर वह तुरंत हाथी के लिए कुछ फल लाया और प्यार से हाथी को खिलाया। हाथी और दर्जी फिर से। के साथ दोस्त बना।

हिरणी की सुंदरता पर गर्व की कहानी

एक बार की बात है, एक जंगल में एक हिरन रहता था। वह दिखने में बहुत सुंदर था, जिसके कारण बारहसिंगा को अपने सुंदर सींगों पर बहुत घमंड था। तालाब में पानी पीते समय जब भी वह अपनी परछाई देखता तो सोचता कि मेरे सींग तो कितने सुन्दर हैं परन्तु पैर कितने पतले और कुरूप हैं। वह सोचता था कि काश उसके पैर उसके सींगों जितने सुंदर होते, तो वह और भी सुंदर दिखता। ऐसे में उन्हें अपने पैरों के बारे में सोचकर बहुत हीन भावना महसूस होती थी। एक समय की बात है, उस जंगल में कुछ शिकारी शिकार के लिए आये।

जब उन शिकारियों ने इतना सुंदर हिरण देखा तो वे उसका शिकार करने के लिए उसके पीछे दौड़े, तभी हिरण बहुत तेजी से भागा और शिकारियों से बहुत दूर चला गया। हिरण भागने में इतना मशगूल था कि उसे ध्यान ही नहीं रहा कि उसके सामने क्या है। तभी वह दौड़ते हुए एक पेड़ के नीचे से गुजर रहा था और अचानक हिरण के सींग एक पेड़ की शाखा में फंस गए। हिरण अपने सींग छुड़ाने की पूरी कोशिश कर रहा था लेकिन सींग निकल ही नहीं रहे थे। इधर शिकारी लगातार नजदीक आते जा रहे थे। काफी कोशिशों के बाद उसने अपने सींग छुड़ाए और अपनी जान बचाने के लिए सुरक्षित स्थान पर पहुंच गया।

अब हिरण सोचने लगा कि मैं भी कितना बड़ा मूर्ख हूं, जिन सींगों की सुंदरता पर मुझे इतना घमंड था, आज उन्हीं सींगों के कारण मैं बाहरी मुसीबत में फंस गया हूं। जिन टांगों को मैं बदसूरत कहकर कोसता था, आज उन्हीं टांगों ने मेरी जान बचाई है। इस प्रकार बहरासिंघा स्वयं अपनी हीन भावना से मुक्त हो गये।

अपनी गलती पर पछतावा करो

दोस्तों एक गांव में गोपाल नाम का एक लड़का था और गोपाल के घर में पांच भैंस और एक गाय थी। वह दिन भर सभी भैंसों की देखभाल करता, दूर-दूर से उनके लिए हरी घास काट कर लाता और उन्हें खिलाता। गोपाल की सेवा से गाय-भैंस बहुत प्रसन्न हुईं। सुबह और शाम को इतना दूध हो जाता था कि गोपाल के परिवार को उसे बेचने के लिए मजबूर होना पड़ा और गोपाल के घर से दूध पूरे गाँव में बेचा जाने लगा। अब गोपाल को काम करने में और भी अधिक आनंद आ रहा था क्योंकि इससे उसकी आर्थिक स्थिति मजबूत हो रही थी। कुछ दिनों से गोपाल को चिंता होने लगी क्योंकि एक बड़ी बिल्ली की नज़र उसकी रसोई पर थी। जब भी गोपाल को रसोई में दूध रखकर आराम महसूस होता तो बिल्ली दूध पी जाती और उसे लिटा भी देती।

गोपाल ने कई बार बिल्ली को भगाया और मारने की कोशिश की, लेकिन बिल्ली तुरंत दीवार पर चढ़ जाती और भाग जाती। एक दिन गोपाल ने परेशान होकर बिल्ली को सबक सिखाने की सोची, उसने जूट के बोरे का जाल बिछाया जिसमें बिल्ली आसानी से फंस गई। अब गोपाल ने इसे डंडे से पीटने की सोची। बिल्ली इतनी जोर से झपट रही थी कि गोपाल उसके पास नहीं जा सका। लेकिन आज सबक तो सिखाना ही था। गोपाल ने माचिस की तीली जलाई और बोरी पर फेंक दी। कुछ ही देर में बोरा जलने लगा और बिल्ली अपनी पूरी ताकत से भागने लगी।

बिल्ली जिधर भी भागती, जलती हुई बोरी उसका पीछा करती। कुछ ही देर में बिल्ली पूरे गाँव में दौड़ गई। आग लगी है, आग बुझा दो, ऐसी आवाजें पूरे गांव से उठने लगीं। बिल्ली ने पूरा गाँव जला दिया, यहाँ तक कि गोपाल का घर भी इस आग में नहीं बचाया जा सका।

लोमड़ी और अंगूर की मजेदार कहानियाँ

बहुत समय पहले की बात है, एक बार एक जंगल में एक लोमड़ी को बहुत भूख लगी, उसने पूरा जंगल छान मारा लेकिन उसे कहीं भी खाने के लिए कुछ नहीं मिला। बहुत खोजने पर भी उसे कुछ भी ऐसा नहीं मिला जिसे वह खा सके। आख़िरकार, जैसे ही उसके पेट में गड़गड़ाहट हुई, वह एक किसान की दीवार से टकरा गया। दीवार के शीर्ष पर पहुँचकर उसने अपने सामने बहुत सारे बड़े-बड़े रसीले अंगूर देखे। वे सभी अंगूर दिखने में बहुत ताजे और सुंदर थे और लोमड़ी को ऐसा लग रहा था कि वे खाने के लिए तैयार हैं।

अंगूरों तक पहुँचने के लिए लोमड़ी को हवा में ऊँची छलांग लगानी पड़ी। जैसे ही उसने छलांग लगाई, उसने अंगूर पकड़ने के लिए अपना मुंह खोला लेकिन वह चूक गया। लोमड़ी ने फिर कोशिश की लेकिन फिर चूक गई। उसने कुछ और बार कोशिश की लेकिन असफल रहा। आख़िरकार लोमड़ी ने फैसला किया कि वह अब और कोशिश नहीं कर सकती और उसे घर जाना चाहिए। जाते-जाते वह मन ही मन बुदबुदाया, मुझे यकीन है कि अंगूर वैसे भी खट्टे थे।

कौवे गिनना || हिंदी कहानियां

एक बार की बात है, अकबर महाराज ने अपनी सभा में एक अजीब प्रश्न पूछ लिया जिससे सारी सभा आश्चर्यचकित रह गई। जब वे सभी उत्तर जानने की कोशिश कर रहे थे, बीरबल अंदर आए और पूछा कि मामला क्या है। उन्होंने वही सवाल दोहराया। सवाल था कि शहर में कितने कौवे हैं? बीरबल तुरंत मुस्कुराए और अकबर के पास गए और उत्तर की घोषणा की। उसका उत्तर था कि नगर में इक्कीस हजार पाँच सौ तेईस कौवे हैं। जब बीरबल से पूछा गया कि उन्हें उत्तर कैसे पता है, तो उन्होंने उत्तर दिया: अपने आदमियों से कौवों की संख्या गिनने के लिए कहो।

अगर और भी मिले तो आसपास के शहरों से कौवों के रिश्तेदार उनके पास आ रहे होंगे। अगर कम हैं तो हमारे शहर के कौवे शहर से बाहर रहने वाले अपने रिश्तेदारों के पास चले गए होंगे। यह उत्तर सुनकर राजा बहुत संतुष्ट हुआ। इस उत्तर से प्रसन्न होकर अकबर ने बीरबल को एक माणिक और मोती की चेन भेंट की और उन्होंने बीरबल की बुद्धिमत्ता की बहुत प्रशंसा की।

कुत्ते और हड्डी की मजेदार कहानियाँ

बहुत समय पहले की बात है, एक कुत्ता था जो भोजन की तलाश में दिन-रात सड़कों पर घूमता रहता था। एक दिन उसे एक बड़ी रसदार हड्डी मिली और उसने तुरंत उसे अपने मुंह के बीच में पकड़ लिया और घर की ओर ले गया। घर जाते समय उसे एक नदी पार करनी पड़ी। वहां उसने देखा कि एक और कुत्ता बिल्कुल उसकी तरफ ही देख रहा था और उसके मुंह में भी एक हड्डी थी।

इससे कुत्ते के मन में लालच पैदा हो गया और वह उस हड्डी को अपने लिए चाहने लगा। लेकिन जैसे ही उसने अपना मुंह खोला तो जिस हड्डी को वह काट रहा था वह रुक गई। वह नदी में गिर गई और डूब गई। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि दूसरा कुत्ता कोई और नहीं बल्कि उसकी ही परछाई थी। जो अब उसे पानी में दिखाई दे रहा था क्योंकि उसके मुँह की हड्डी पानी में गिर गई थी इसलिए वह उस रात भूखा ही रहा और अपने घर चला गया।

चतुर खरगोश के बारे में मजेदार कहानियाँ

किसी जंगल में एक शेर रहता था। वह जंगल में रहने वाले सभी जानवरों को मारकर खा जाता था, इसीलिए जंगल के सभी जानवर शेर से डरते थे। एक बार सभी जानवर इकट्ठे हुए और शेर के साथ एक समझौता किया कि प्रत्येक व्यक्ति अपनी बारी में शेर के पास आएगा और बाकी जानवर बिना किसी डर के जंगल में घूमेंगे। एक बार खरगोश की बारी आई तो वह धीरे-धीरे शेर की ओर जा रहा था कि अचानक रास्ते में उसे एक विचार आया और वह काफी देर बाद शेर के पास पहुंच गया। शेर बेचैन था और भूख के कारण अपनी गुफा में इधर-उधर घूम रहा था। खरगोश को देखकर शेर दहाड़कर बोला, "अरे खरगोश, तुम इतनी देर से क्यों आए? मैं भूख के कारण यहाँ मर रहा हूँ।" खरगोश ने कहा, महाराज, हम पांचों भाई आपकी सेवा के लिए आ रहे थे, लेकिन रास्ते में हमें एक और शेर मिला और उसने कहा कि वह जंगल का राजा है।

निष्कर्ष : बच्चों की कहानियां || मज़ेदार कहानियाँ || हिंदी कहानियां

आशा है दोस्तों आपको बच्चों की कहानियां || मज़ेदार कहानियाँ || हिंदी कहानियां | Bachcho Ki Kahani In Hindi || Story In Hindi के बारे में दी गई जानकारी अच्छी लगी है। दिवाली की कथा | Deepawali ki Katha को अपने दोस्तों और परिवार के लोगो के साथ साझा करें। ताकि परिवार में जिन भी लोगो ने दिवाली की कथा | Deepawali ki Katha नही सुनी। वे सुने और दीपावली व्रत करें। इस लेख से संबंधित आपका कोई सवाल है तो Comments बॉक्स में पूछे। हम जल्दी ही जवाब देंगे।

Related posts to Deepawali Ki Katha

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने

संपर्क फ़ॉर्म